Truth and Courage Celebration at Prakriti around Diwali is the celebration of virtues that make us a better human being. In the Truth and Courage celebration, learners are guided to perform their acts of courage on an aspect that’s untried before as a group and create a symphony with their peers. Here are few glimpses from our celebration.

Red Group (Pre-Nursery) 'Ganesh Vandana'

 Starting with Red Group, our youngest learners who are three (3) years old, performed ‘Ganesh Vanadana’. In the Truth and Courage celebration, learners are guided to perform their acts of courage on an aspect that’s untried before as a group and create a symphony with their peers.

Sunrise Group (Grade 6) 'Mahishasur Mardini Strotam'
Devotional stotra of Goddess Durga ‘Mahisasur Mardini’ written by Guru Adi Sankaracharya was recited and sang by learners of Sunrise Group together.

 

 

Luminosity Group (Grade 6) 'Kathputli Ka Raja'
दीपावली के विशेष अवसर पर ‘ ट्रुथ एंड करेज प्रोग्राम ‘ के तहत कक्षा छ: लुमिनोसिटी ग्रुप के छात्रों ने ‘ कठपुतली का राजा ‘ नामक नाटक की प्रस्तुति तैयार की जिसकी मूलसंवेदना है कठिन समय में बैर-भाव को दूर करते हुए मदद करना। इसे कठपुतलियों के अभिनय के द्वारा, कविता और संवादों के माध्यम से दर्शाया गया है। नाटक में दो राजाओं के बीच जंग होने वाली है। दोनों राजाओं को जंग पर जाना है। एक राजा योध्दाओं वाले कपड़े पहने हुए , अपनी तलवार, ढाल और भाला लेकर मैदान में आता है तथा दूसरा राजा जो हर अवसर पर सज-संवरकर के रहना पसंद करता है, भले ही जंग लड़ने क्यों न जाने हो ? और जंग लड़ने के लिए तलवार और ढाल की जगह शीशा ले जाता है तो क्या होता होगा ? दुश्मन राजा से कैसे सामना करता होगा ? जब कोई संकट आता होगा तो उसका उपाय कैसे निकालता होगा ?
इन्हीं सब घटनाओं को लुमिनोसिटी ग्रुप के छात्रों ने बड़े ही रोचक तरीके से दिखाया है।
 

Unity Group (Grade 7) 'Inter-Being' by Thich Nhat Hanh
“Emptiness does not mean nothingness. Saying that we are empty does not mean that we do not exist. No matter if something is full or empty, that thing clearly needs to be there in the first place. When we say a cup is empty, the cup must be there in order to be empty. When we say that we are empty, it means that we must be there in order to be empty of a permanent, separate self.
About thirty years ago I was looking for an English word to describe our deep interconnection with everything else. I liked the word “togetherness,” but I finally came up with the word “interbeing.” The verb “to be” can be misleading, because we cannot be by ourselves, alone. “To be” is always to “inter-be.” If we combine the prefix “inter” with the verb “to be,” we have a new verb, “inter-be.” To inter-be and the action of interbeing reflects reality more accurately. We inter-are with one another and with all life.”
Thich Nhat Hanh
 

Integrity Group (Grade 3) 'Anandaloke Mangalaloke'

Anandaloke Mangaloke, a song composed by Rabindranath Tagore for expressing devotion to the divine.

An English translation of the song is as follows:

In this world of bliss, as the light of blessing, Thou dost reign, O Glory and Truth.
Thy majestic splendour
Sets alight the firmament,
All the sparkling jewel worlds
Lie circled at Thy feet.
Planets, stars, moon and sun,
Yearning, spinning swiftly,
Imbibe thy radiance,
Immersed in Thy eternal rays.
Honeyed showers of ceaseless beauty
Charm and bless the Earth
In flower and leaf, in symphony,
Aroma, glowing colour.
Day and night the stream of life
Surges ever fresh
Through life and death, incessant flows
Thy benevolent grace.
Caring, kindness, love, devotion,
Mellow and soothe the soul.
What bounteous solace Thou dost pour
To wash away all pain.
With pomp and celebration
The universe adores Thee.
Wondrous bounty! O Almighty!
Fearless Sanctuary!
Honesty Group (Grade 5) 'Dastangoi'

कहानी कहने के तमाम तरह की विधाएं विकसित हुई हैं, उन्हीं में से ‘ दास्तानगोई ‘ 13 वीं शताब्दी की उर्दू मौखिक कहानी कला का कलात्मक रूप है जिसमें मंच के केंद्र में कहानी कहने वाला कलाकार होता है जिसे ‘ दास्तानगो ‘ कहा जाता है। दास्तानगो एक ही जगह बैठे हुए अपने चेहरे की भाव-भंगगिमाओं और आवाज़ के जादू से कहानी कहता है। कक्षा पाँच के होनेस्टी ग्रुप ने ‘ दास्तानगोई ‘ विधा के ज़रिए कहानी ‘ अबू खां की बकरी ‘ को प्रस्तुत किया है जिसमें बताया गया कि जब हमारे सामने कोई बड़ा संकट आ जाता है तो हिम्मत और समझदारी से किस तरह से काम लेना चाहिए ? संकट चाहे जितना बड़ा हो, इंसान के साहस से बड़ा नहीं होता है। धैर्य और समझदारी से सोचने पर सारे रास्ते नज़र आने लगते हैं।

यह कहानी एक ऐसी ही बकरी चांदनी की है जिसे पहाड़ों की खुली हवा पसंद है, खेलना-कूदना उसे भाता है और इसी चक्कर में एक दिन मुसीबत में पड़ जाती है क्योंकि उसके सामने भेड़िया आ जाता है तो ऐसे में क्या चांदनी यह मान ले कि उसके पास बचकर निकलने का कोई तरीका नहीं है ? या अपनी समझ बूझ से चांदनी अपने आप को बचा ले जाए ? 

तो आइए सुनते हैं कक्षा पाँच के होनेस्टी ग्रुप द्वारा तैयार की गई ‘ दास्तानगोई ‘ :-